jagate raho

Just another weblog

407 Posts

993 comments

Reader Blogs are not moderated, Jagran is not responsible for the views, opinions and content posted by the readers.
blogid : 12455 postid : 1112163

महिला मंत्री वनाम भिखारी बालक

Posted On: 2 Nov, 2015 Others में

  • SocialTwist Tell-a-Friend

दो दिन से अंग्रेजी हिंदी के समाचार पत्र एक खबर को बड़ी प्रमुखता से स्थान दे रहे हैं ! ‘मध्य प्रदेश की पशुपालन महिला मंत्री श्रीमती कुसुम मेहदेले ने एक भीख माँगने वाले गरीब बच्चे को जो उसके कदमों में बैठकर केवल एक रूपया मांग रहा था, के सर पर लात मार दी ‘ ! बताओ मीडिया ने इस मामूली घटना को इसु बना लिया ! मंत्री चाहे केंद्र का हो या प्रदेश का, शासक होता है, भला बच्चे तो क्या बड़े बड़े भिखरियों की भी रूह कांप जाती है जब कहीं ये महान आत्माएं उनके रास्ते में पड़ जाते हैं, ये मंत्री लोग तो अपने मातहतों को भी नहीं छोड़ते फिर ये बच्चा बेचारा किस खेत की मूली है ! फिर मीडिया वाले इस सत्य को क्यों नहीं समझते की ‘ जिसके पास जो होगा वह वही तो देगा’ ! मैडम बेचारी के पास एक लात बची थी सो उसने खैरात में कहो या भीख में बच्चे को दे दी ! बबूल का पेड़ आँगन में होगा तो बताओ आम कहाँ से आएगा !
एक जमाने की बात है की एक गुरु अपने चेले के साथ कंधों में लम्बे लम्बे खाली झोला लटकाए भीख माँगने के लिए अपनी कुटिया से निकले ! सुबह सबेरे सड़क के किनारे पड़ने वाले पहले मकान के दरवाजे को डंडी से खटखटा दिया ! एक मोटी तकड़ी महिला ने गुस्से में भरकर दरवाजा खोला ! साधू ने भीख मांगने के उद्देश्य से अपने खाली झोले का मुंह खोल कर महिला के आगे कर दिया ! महिला गुस्से में तो पहले ही थी, खाली झोला देखकर टेम्प्रेचर सातवें आसमान पर चढ़ गया ! “इतने मोटे तकड़े पहलवान मेहनत मजदूरी न करके भीख माँगते हो, सुबह सबेरे लोगों का दरवाजा खटखटा कर नींद खराब करते हो, भीख माँगते हुए तुम्हे शर्म नहीं आती ” ? इतना कहकर बड़बड़ाते हुए जोर से दरवाजा बंद कर दिया ! चेले को अपने गुरु की शक्तियों पर भरोषा था, वह सोच रहा था की गुरु जी शाप देकर इस बेलगाम बदजवान महिला को जरूर दंड देंगे ! जब उसने देखा की गुरु जी शांत भाव से आगे जा रहे है, वह भी पीछे पीछे चल पड़ा ! आखिर उसने गुरु से पूछ ही लिया, “गुरु जी उस महिला ने भीख देनी तो दूर की बात उलटा आपका ही अपमान कर दिया और आपने कुछ भी नहीं बोला” ! बड़े शांत भाव से गुरु जी बोले “जिसके पास जो होगा वही तो देगा, महिला के पास गाली अपशब्द थे वही उसने हमारी झोली में डाल दिया “! ठीक वैसे ही महिला मंत्री उस भिखारी बच्चे से भी गरीब थी ! उसके पास मात्र एक लात बची थी सो उसने मार दी ! बताओ क्या बुरा किया ?

Rate this Article:

1 Star2 Stars3 Stars4 Stars5 Stars (1 votes, average: 5.00 out of 5)
Loading ... Loading ...

4 प्रतिक्रिया

  • SocialTwist Tell-a-Friend

Post a Comment

CAPTCHA Image
*

Reset

नवीनतम प्रतिक्रियाएंLatest Comments

rameshagarwal के द्वारा
November 7, 2015

जय श्री राम रावतजी आजतक के एक कर्मचारी ने लड़के को पैसा देकर स्टिंग ऑपरेशन करके गलत दिखया था जिसके लिए चानेल ने उसे निकाल कर माफी माग ली आज को बीजेपी के नेताओ के खिलाफ बदनाम करने के लिए साजिस चल रही.INTOLERANCE में मीडिया ने कितना गलत दिखा कर सरकार की छवि बिगड़ने की कोशिश की मीडिया बहुत गलत कभी कभी करता है लेख के लिए साधुवाद.

    harirawat के द्वारा
    April 26, 2017

    विपक्ष मोदीजी के विकास रथ को देखकर इतना घबरा गया है की उन्हें बदनाम करने के लिए रोज एक नया हथकंडा आजमा रही है और जनता की नजरों में गिरती जा रही है !

harirawat के द्वारा
November 4, 2015

शोभा जी आप सही कहती हैं ! भिखारियों का भी एक गंग है, वे बच्चों की चोरी करते हैं और उन्हीं से भीख मंगवाते हैं ! उन बेचारों की क्या गलती है ! फिर नेताओं पर हर वक्त मीडिया गिद्द दृष्टि रहती है ! फिर सभ्य समाज में लात मारना किसी हालत में क्षमा के दायरे से बाहर है ! टिप्पणी के लिए धन्यवाद !

Shobha के द्वारा
November 2, 2015

श्री रावत जी बहुत अच्छा लेख हमारे एरिया में हाई क्लास भिखारी हैं जिनके पास सेल हैं जहाँ भीख ज्यादा मिलती है वहाँ पर भीख के लिए बच्चे भेज दिए जाते हैं आपके पैरों में लेट जाते हैं हम लोग अचानक गिरने को हो जातें हैं वः दस रुपया मांगते हैं हैं भूख लगी है उनके साथ की महिला सदा प्रिग्नेंट रहती है भीख न देने पर लड़ते हैं गाली भी देते हैं | रोटी दो मना कर देते हैंवः चैनल वालों को नजर नहीं आते


topic of the week



latest from jagran