jagate raho

Just another weblog

400 Posts

978 comments

Reader Blogs are not moderated, Jagran is not responsible for the views, opinions and content posted by the readers.
blogid : 12455 postid : 1327421

मन की बात

Posted On: 28 Apr, 2017 में

  • SocialTwist Tell-a-Friend

रिश्ता गहरा हो न हो पर भरोषा चाहिए,
हाथ मिले या न मिले दिल करीब ले आइए !
दिल की धड़कन ज्यों मिले जहर पिघल जाएगा,
मैल मन का धुल धुला जवां पर फिर आएगा !
रिश्ते रहते हैं वही पर भरोषा ना रहा,
गाली दी मैंने तुम्हे पड़ोसी ने तुमसे कहा !
सच मान कर दूरियां दिल की बढ़ने लगी,
वो पड़ोसी है सच्ची मैं झूठी, बहिन हूँ तेरी सगी !!
बोलो न मुंह से कुछ मगर दिल पास ले आइए,
कुंड पड़े भरोषे में फिर विश्वास जगाइए !! १

केजरीवाल ने वो किया जो किसी ने नहीं किया,
दो साल तक मोदी मोदी करके खूब गाली दिया,
जवान थक गयी ईवीएम याद आया,
अपने नीचे वाले सिसोदिया को बुलाया !
अरे पार्टी हार गयी अब तो कुछ बोलो,
ईवीएम पर ही बोलने बंद थोबड़ा खोलो,
भाजपा वाले दिल्ली में कमल दिखा रहे हैं,
कांग्रेस आप वाले हार की खुजली मिटा रहे हैं !
कहे रावत कविराय आप में हड़कम भारी,
दिल्ली में कभी न आए केजरीवाल की पारी ! हरेंद्र २ !

दिली में फिर चली मोदी मोदी लहर,
लहर में शीतलता सुबह शाम दो पहर,
सुबह शाम दो पहर, डीएमसीडी में रंग जमाया,
तीसरी बार नगर निगमों में कमल ने रंग बिखराया !
कहे रावत कविराय १८१ कुर्सियां भाजपा ने हथियाई,
मुश्किल से आपने ४६ लेकर जमानत बचा पाई !! हरेंद्र 3

“आतंकियों की शरण स्थली है ये पाकिस्तान,
अमेरिका भी जानता और जानता इंग्लिस्तान,
जानता इंग्लिस्तान, खुद पाक है लोमड़ जैसा,
पीठ पर थपकी देता खड़ा है चीनी भैसा !
देखने को सिविल सरकार पीएम नवाब शरीफ,… See More

Rate this Article:

1 Star2 Stars3 Stars4 Stars5 Stars (No Ratings Yet)
Loading ... Loading ...

2 प्रतिक्रिया

  • SocialTwist Tell-a-Friend

Post a Comment

CAPTCHA Image
*

Reset

नवीनतम प्रतिक्रियाएंLatest Comments

amarsin के द्वारा
April 28, 2017

बहुत सुन्दर पोस्ट

rameshagarwal के द्वारा
April 28, 2017

जय श्री राम आदरणीय हरेन्द्र जी सुन्दर विवेचना.केजरीवाल ने समझा जैसे दिल्ली की जनता को बेफकूफ बनाया पुरे देश की जनता को बना लेगा लेकिन उल्टा हो गया जितनी बेईज्ज़री इसने अपनी करवाई नैतिकता होती तो इस्तीफ़ा दे देता य्प्गी जी की तरह पहले दिल्ली में काम करना चाइये था.सोचा मोदीजी को गली दो जनता खुश हो जायेगी नतीजा मिलगया !अब उसका सफ़र ख़तम .उम्मीद है अब मिलकर कार्य करेगा.


topic of the week



latest from jagran