jagate raho

Just another weblog

395 Posts

977 comments

Reader Blogs are not moderated, Jagran is not responsible for the views, opinions and content posted by the readers.
blogid : 12455 postid : 1335360

ये कविता १९४७ से १९९८ के बीच की है !

Posted On: 1 Jul, 2017 में

  • SocialTwist Tell-a-Friend

“आजाद भारत” -कविता १९४७ से १९९८ के बीच की है
पत्नी विदेश गए पति से =
इस पार प्रिये बेकारी है, भुखमरी से रिश्तेदारी है,
गली गली गरीबी लड़ती , संघर्ष अभी तक जारी है !
आजाद हुए वर्षों पहले, क्या खोया क्या पाया है,
संसद में करके तू तू मैं मैं हाथ पाँव तुड़वाया है,
माईक पकड़ने छीना झपटी कुर्सियां तोड़ी जाती हैं,
सांसदों की नोक झोंक, दूर दर्शन पर आती हैं !
लूटमार डकैती पड़ती भूखों से भूखी लड़ती है,
दिन दहाड़े ह्त्या होती इंसानियत फिर रोती है !
दागी भ्रष्टाचारी नेता कैबनिट मंत्री बन जाता है,
मवेशी चारा चरनेवाला भारत की रेल चलाता है !
भष्टाचारी मुख्य मंत्री जब जेल भेजा जाता है,
मुख्य मंत्री की कुर्सी फिर पत्नी को दे जाता है !
गली गली नुक्कड़ नुक्कड़ बे इज्जत होती नारी है,
इस पार प्रिये बेकारी है, भूखमरी से रिश्तेदारी है ! 1 !

नेता आवास बदलता है, मरम्मत सरकारी खर्चा है,
ये वसूली जनता से होती आज इसी की चर्चा है,
अफ़राधी क़ानून बनाते सिसकती ईमानदारी है,
इस पार प्रिये बेकारी है, भूखमरी से रिश्तेदारी है ! २ !

पानी के पाइपों में जंक लगा,टूटी फूटी सड़कें हैं,
नलके पानी के सूखे पड़े, किस्मत जनता से रूठी है,
प्रदूषण की काली छाया, सूर्य चाँद छिप जाते हैं,
नील गगन के टिम टिम तारे आज नजर नहीं आते हैं,
सुबह सबेरे अब इस छत पर चिड़िया नहीं चिंचियाती है,
उदास खड़े पेड़ों से अब ठंडी बयार नहीं आती है !
वीरान पड़े हैं बाग़ बगीचे, माली थका अलसाया है,
हर शाख पर उल्लू बैठा, इस बार बसंत नहीं आया है !
सज्जन सड़क किनारे बैठा, दुर्जन को मिली अटारी है,
इस पार प्रिये बेकारी है, भूखमरी से रिश्तेदारी है ! ३ !

किसानों में बेचैनी है, खेतों में फसलें मुरझाती हैं,
लहलहाती धान की खेती आज नजर नहीं आती है !
दूषित गंगा का जल, दूषित भारत की नदियाँ हैं,
निर्मल जल नदियों में देखे बीत गयी सदियां हैं !
सोने की चिड़िया उड़के सात समुद्र पार गयी,
मानसरोवर जगह पे है, राजहंस का पता नहीं,
भारत में शासन सुनते हैं स्वयं भगवान् चलाते हैं,
शासक प्रशासक दफ्तर में वेतन लेने ही जाते हैं !
मजहब से मजहब लड़ता, पार्टी से पार्टी टकराती,
बाहर का दुश्मन वार करे, जनता एक हो जाती है !
ये सभ्यता है हमारी ये ही पहचान हमारी है,
देख एकता भारत की, सेना दुश्मन की हारी है !
ये भारत की बात प्रिये तुम विदेश की बात करो,
मैं आ रही हूँ मिलने तुमसे एयर पोर्ट पर आके मिलो !

Rate this Article:

1 Star2 Stars3 Stars4 Stars5 Stars (No Ratings Yet)
Loading ... Loading ...

2 प्रतिक्रिया

  • SocialTwist Tell-a-Friend

Post a Comment

CAPTCHA Image
*

Reset

नवीनतम प्रतिक्रियाएंLatest Comments

rameshagarwal के द्वारा
July 2, 2017

जय श्री राम हरेन्द्र जी आपकी कविता पढ़ कर बहुत आनंद आया.गांधी जी इसीलिये कहते थे की कांग्रेस को भंग कर दो नहीं तो इनके नेता अंग्रेजो से भी ज्यादा देश को लूटेंगे.अंग्रेजो ने भारत वाशी को भ्रस्ताचारी और काम चोर बना दिया.देश की इस दुर्दशा केलिए कांग्रेस और गांधी परिवार ज़िम्मेदार है इसीलिये हमारा देश्बहुत पीछे हो गे.कविता की प्रशंसके लिए शब्द नहीं

harirawat के द्वारा
July 1, 2017

पाठकों से निवेदन है की कृपया इस कविता को जरूर पढ़ें और अपने प्रतिक्रियाएं दें ! ये उन दिनों की है जब इंद्रा गाँधी ने अपनी संसद सदस्य्ता ख़त्म होने पर देश में एमरजेंसी लगवा दी थी ! इंद्रा बोली “अगर मैं पीएम नहीं तो कोई भी कुछ नहीं है ! मैं ही भारत हूँ मैं ही हिन्दुस्तान हूँ” ! गांधी परिवार आज भी उसी लकीर के फ़क़ीर होने पर विशवास करती है !


topic of the week



latest from jagran