jagate raho

Just another weblog

412 Posts

1013 comments

Reader Blogs are not moderated, Jagran is not responsible for the views, opinions and content posted by the readers.
blogid : 12455 postid : 1352655

आओ शायर बनके शायरी करें

Posted On 27 Sep, 2017 में

  • SocialTwist Tell-a-Friend

उनके चेहरे की चमक से चक्षु चौंधिया गए,
आँखें खुली, चमक चमक ही रही हसीना का पता नहीं ! १ !

बालकनी की खिड़की पर बिजली चमकी,
सामने वाली खिड़की में हसीना थी खड़ी ! २ !

हे भोला, कर भला इतना,
की शैतान खुद टूटे, बुराई के दम निकले ! ३ !

हे आदमी तू आदमी है, आदमी ही बनके देख,
चित्रगुप्त लिख रहा, तेरे कर्मों का लेख ! ४ !

खुशबू बिखरी, पवन के झोंके से,
कुदरत का करिश्मा था,
गंदगी का झोंका बाबा के आश्रम के हवन से निकला था !,! ५ !

जनक सुतहि समुझाइ करि बहु विधि धीरजु दीन्ह !
चरण कमल सिरु नाइ कपि गवनु राम पहिं कीन्ह !!

चलत महाधुनि

जाइ पुकारे ते सब बन उजार जुबराज,
सुनी सुग्रीव हरष कपि करि आए प्रभु काज !

Rate this Article:

1 Star2 Stars3 Stars4 Stars5 Stars (1 votes, average: 5.00 out of 5)
Loading ... Loading ...

0 प्रतिक्रिया

  • SocialTwist Tell-a-Friend

Post a Comment

CAPTCHA Image
*

Reset

नवीनतम प्रतिक्रियाएंLatest Comments


topic of the week



latest from jagran