jagate raho

Just another weblog

407 Posts

993 comments

Reader Blogs are not moderated, Jagran is not responsible for the views, opinions and content posted by the readers.
blogid : 12455 postid : 1366307

रामायण के गुप्त रहस्य

Posted On: 10 Nov, 2017 में

  • SocialTwist Tell-a-Friend

आज के दुराचारी, अत्याचारी, बलात्कारी, भ्र्ष्टाचारी नेताओं की तुलना , त्रेता और
द्वापर के राक्षसों से नहीं की जा सकती, रावण, खर दूषण,
कंस, वृतासुर, भस्मासुर, शंभू- निशम्भु, वे क्रूर दुष्ट, हिंसक थे पर दोस्ती
करके पीछे से खंजर नहीं भोंकते थे, नन्नी नन्नी बच्चियों के साथ
बलात्कार करके उन्हें गला दबा कर नहीं मारते थे ! महिलाओं का चीर हरण
नहीं होता था, वे जंगलों में ही सन्यासियों के हवन और तपस्या भंग जरूर करते थे,
नर भक्षी थे, वे राक्षस हैं, लोग डर के रहते थे, लेकिन आज के नेता सामने चेहरे पर मुस्कान
लाकर, मतदाताओं से वोट पाते ही आँखें बदल देते हैं, मौक़ा पाकर रास्ते से हटा भी देते हैं !
रावण ने सीता हरण किया था अपने मोक्ष के लिए ! जिस सीता का हरण किया गया था
वह असली सीता नहीं थी, बल्कि सीता जैसे ही सुन्दर सुशील, विनर्म सीता जी की छाया*
मात्र थी,इस रहस्य को भगवान् और सीता जी ही जानते थे, लक्ष्मण जी भी इस रहस्य से अनविज्ञ थे !
लोक दिखावे के लिए भगवान् रामचन्द्र जी ने और माँ जानकी जी ने जिंदगी भर
इस रहस्य से पर्दा नहीं उठने दिया ! रामायण के सारे पात्र अपनी अपनी क्षमता
के मुताबिक़ सीता जी की खोज में हर तरह की विपरीत परस्थितियों में भी लगे रहे,
(सुग्रीव – भेज रखे हैं जासूस चारों तरफ लौट कर उनमें से कोइ आया नहीं ),
लेकिन श्रेय के भागी बने पवन पुत्र हनुमान जी ! अंगद के नेतृत्व में जामवन्तजी,
हनुमान जी को बानरों के साथ बानर राज सुग्रीव ने दक्षिण दिशा में भेजा था ! जटायु ने
तो सीता जी को रावण के चंगुल से बचाने के लिए अपने प्राण ही न्योछावर कर दिए थे
रास्ते में उनके भाई सम्पाती ने अंगद की टीम को सीता के बारे में बताया की कुछ दिनों पहले
मैंने एक अबला नारी को आसमान में उड़ने वाले पुष्पक विमान में रोते -विलाप करते हुए
देखा था, विमान लंका की दिशा में जा रहा था ! सीता जी के इस रहस्य का प्रमाण तुलसीदास द्वारा रचित
रामचरित्र मानस के अरण्यकाण्ड में पृष्ट संख्या ५५९-560 के दोहा और चौपाइयों में अंकित है !

दोहा -लछिमन गए बनहि जब लें मूल, फल कंद,
जनकसुता सन बोले, विहँसि कृपा सुख बृंद ! २३
अर्थ = लक्ष्मण जी जब कंद, मूल, फल लेने के लिए वन में गए, तब अकेले में
श्रीरामचन्द्र जी हंसकर जानकी जी से बोले.
चौपाय – “सुनहु प्रिया ब्रत रुचिर सुसीला,
मैं कुछ करबि ललित नरलीला !
तुम्ह पावक मंहु करहु निवासा,
जौं लगी करों निसाचर नासा” !
अर्थ = सीते मैं अब कुछ मनोहर नरलीला करूंगा, इसलिए
जब तक मैं राक्षसों का नाश करूँ, तब तक तुम अग्नि
में निवास करो !
चौपाय – “जभी राम सब कहा बखानी ! प्रभु पद धरी हियँ अनल समाई !
निज प्रतिबिम्ब राखी तहँ सीता ! तैसई सील रूप सुबीनीता” !!
अर्थ = श्री रामचंद्र जी ने ज्यों ही सब समझाकर कहा, त्यूं ही सीता जी
प्रभु के चरणों को हृदय में धरकर अग्नि में समा गयी ! सीताजी ने
अपनी छाया मूर्ति वहां रखदी, जो उनके जैसे ही शील स्वभाव
और रूपवाली और विनम्र थी !
“लछिमन यह मरम न जाना, जो कुछ चरित्र रचा भगवाना” !
भगवान ने जो लीला रची, इस रहस्य को शेषनाग के अवतार लक्ष्मण जी भी नहीं जान
पाए !
जब भगवान् श्रीराम चंद्रजी ने लंका में जाकर रावण सहित सारे पापी राक्षसों का संहार करके
छाया रूपी सीताजी को बंधन मुक्त करके लाये तो सारे समाज के सामने सीताजी की पवित्रता
की परीक्षा हेतु उनको अग्नि प्रवेश करवा कर उनकी परीक्षा ली गयी थी, छाया मूर्ति सीता जी
अग्नि में समाहित होगई और असली सीता अग्नि से बाहर आगयी थी !
उधर लंका में नाक कटी सुर्पणखां ने जब रावण के पास जाकर अपनी कटी नाक दिखाई और राम-लछमन
के हाथों खर दूषण के मरने की खबर सुनाई,
दोहा=”सभा माझ परि व्याकुल बहु प्रकार कह रोइ,
तोहि जियत दसकंधर मोरि कि ऐसी गति होय” !
चौपाय-सुनत सभासद उठे अकुलाई, समुझाई गहि बांह उठाई,
कह लंकेस कहसि निज बाता, केइन तब नासा कान निपाता !
सुर्पणखां-अवध नृपति दसरथ के जाए, पुरुष सिंघ बन खेलन आए,
समुझि परी मोहि उन्ह कै करनी, रहित निसाचर करिहहिं धरनी !!
अतुलित बल प्रताप द्वौ भ्राता, खल बद्ध रत सुर मुनि सुखदाता !
सोभाधाम राम अस नामा, तिन्ह के संग नारी एक स्यामा ! !
रूप रासि बिधि नारि सँवारी, रति सत कोटि तासु बलिहारी,
तासु अनुज काटे श्रुति नासा, सुनी तव भगिनी करहिं परिहासा !!
खर दूषण सुनी लगे पुकारा, छन महुँ सकल कटक उन्ह मारा,
खर दूषण तिसिरा कर घाटा, सुनी दससीस जारी सब जाता !”

तो पहले तो रावण को यकीन ही नहीं हुआ की खर-दूषण मारे गए हैं, लेकिन
जब सुर्पणखां ने साड़ी कहानी बयान की तो उसे पका यकीन होगया है की हम
जैसे पापियों का संहार करने के लिए साक्षात भगवान का जन्म होचुका है
राम-लक्ष्मण के रूप में !
रावण मन ही मन = सुर नर असुर नाग खग माहीं, मोरे अनुचर कह को नाहीं
खर दूषण मोहि सम बलवंता, तिन्ही को मारइ बिनु भगवंता !!
सुर रंजन भंजन मही भारा, जौं भगवंत लीन्ह अवतारा !
तो मैं जाइ बैर हठी कर ऊँ, प्रभु सर प्रान तजें भव तरऊँ !!
होइहि भजनु न तामस देहा, मन क्रम बचन मंत्र दृढ एहा !
जौं नररूप भूपसुत कोऊ, हरिहउँ नारी जीती रन दोऊ !!

अर्थ = रावण सोचता है की तीनों लोकों में,देवता, राक्षसों, मनुष्यों, नागों,पक्षियों में, आज तीनों लोकों में कोइ भी बल, बुध्दि, ऐश्वर्य
और तेजस्वी मेरे जोड़ का नहीं है,
खर-दूषण मेरे सामान बलवान थे, उन्हें बिना भगवान् के कोई दूसरा नहीं मार सकता था, लगता है, धरती से पापिओं का नाश करने के लिए,
भगवान का अवतार हो चुका है, इस तामस देह से मैं उनका भजन नहीं कर सकता, हाँ उनसे वैर बढ़ाऊं और उनके वाणों से मुक्ति
पाकर भव सागर पार उतर जाऊं ! अगर ये केवल राजा के बेटे हैं तो मैं इन दोनों को रण में जीत कर इनकी नारी को हरण करके
ले आऊंगा ! इसी उद्देश्य की प्राप्ति के लिए रावण ने मारीच को सोने का मृग बनाकर पंचवटी में भेजा, सोने के मृग को देखकर सीता जी
ने भगवान राम से उस सोने के मृग को मारकर उसकी सुन्दर चर्म लाने को कहा ! राम मृग के पीछे पीछे भागे, कुछ दूर भाग कर मारीच
कभी छिप जाता, कभी प्रकट होकर दूर निकल जाता ! भगवान् राम ने आखिर बाण मार ही दिया, वाण लगते ही उसने पहले लक्ष्मण को
में लक्षमण को पुकारा, फिर राम का स्मरण करते हुए प्राण त्याग दिए ! सीता जी ने लक्ष्मणजी को राम की सहायता के लिए जाने को
मजबूर कर दिया ! लक्ष्मण जी ने पंचवटी की कुटिया छोड़ते समय एक रेखा खींची और सीता जी से विनीत भाव से उस रेखा को न लांघने को
कहा ! वह रेखा आज भी लक्ष्मण रेखा के नाम से जानी जाती है और याद दिलाती है ‘कि नारी को सीमा से बाहर लक्ष्मण रेखा लांघ कर नहीं जाना चाहिए’ !
बाकी अगले अंक में

Rate this Article:

1 Star2 Stars3 Stars4 Stars5 Stars (2 votes, average: 5.00 out of 5)
Loading ... Loading ...

7 प्रतिक्रिया

  • SocialTwist Tell-a-Friend

Post a Comment

CAPTCHA Image
*

Reset

नवीनतम प्रतिक्रियाएंLatest Comments

PAPI HARISHCHANDRA के द्वारा
November 17, 2017

हरि ,हरी ,हरियः..सतयुग मैं.हरि के लिए लक्ष्मण रेखा लाॅघी ,कलियुग मैं हरी के लिए ..ओम शांति शाति  हरियः 

    harirawat के द्वारा
    November 19, 2017

    धन्यवाद, सकारात्मक टिप्पणी के लिए !

jlsingh के द्वारा
November 12, 2017

बहुत ही सुन्दर आदरणीय चाचा जी. मेरी साहित्य रूचि जगाने का एक स्रोत रामायण यानी रामचरित मानस भी है. आप काठ जारी रक्खें हम सब रसास्वादन करते रहेंगे! सादर!

    harirawat के द्वारा
    November 19, 2017

    जवाहर बेटे, खुश रहो, स्वस्थ रहो ! काफी लम्बे आरसे के बाद टिप्पणी मिली, आशीर्वाद ! चाचा को प्रोत्साहित कर रहो !

Shobha के द्वारा
November 12, 2017

श्री रावत जी सराहनीय प्रयत्न आपने अपने ल्लेख द्वारा समाज पर अच्छा कटाक्ष ही नहीं अपनी पीड़ा अपने शब्दों में व्यक्त की है रावत जी समय का चक्र फिर बदलेगा पतन के बाद अच्छा समय भी आता है आप ऐसे ही लिखते रहिये पाठकों को नवीनता का अहसास दिलाते रहिये एक समय ऐसा भी था जब राम जैसे आदर्श थे तो दुश्मन भी सीता को हर कर अशोक वाटिका में रखते थे मर्यादा का ध्यान रखते थे

    harirawat के द्वारा
    November 12, 2017

    धन्यवाद शोभाजी, आपकी टिप्पणी एक नयी ऊर्जा भर देती है, धन्यवाद, इसी तरह मार्ग दर्शन कराते रहिएगा !

harirawat के द्वारा
November 10, 2017

जागरण जंक्शन के पाठकों से अनुरोध है इस ब्लॉग को जरूर पढ़ें और अपने अनुभव बांटे ! कोइ त्रुटि हो तो कृपया जरूर उजागर करें ! धन्यवाद


topic of the week



latest from jagran