jagate raho

Just another weblog

417 Posts

1019 comments

Reader Blogs are not moderated, Jagran is not responsible for the views, opinions and content posted by the readers.
blogid : 12455 postid : 1361667

जन्म दिन ki kavitaaen

Posted On: 24 Nov, 2017 में

  • SocialTwist Tell-a-Friend

बगीचे में फूल खिलें हैं, भौंरे गुन गुन करते,
खिले फूल की खुशबू लेने हम खुद भौंरे बनते !
अवनि से अम्बर तक कुदरत अपना जादू दिखलाती,
लाल गुलाबी फूलों से वन उपवन को चमकाती !
हमने फूलों से पूछा,
आज ज्यादा ही खिले हुए हो,
किसको जलवा दिखलाने को !
फूल मुस्कराया, पहले रंगों को तोला, फिर बोला,
“जन्म दिन है काजल का, समा रोशन हुआ है,
उधर ४० दिए जले हैं, हम भी पीछे नहीं हैं !
हमी से गुलदस्ता बनता, हमी से गले की माला,
हमी हैं, जो खोल देते हैं बंद प्रेम का ताला ” !
हमको जन्म दिन याद आया, हमने कलम उठाया,
“हैपी बर्थ डे टूयू काजल”,
जल्दी से दो लाईन की कविता बनाया !

काजल, नयनों की है शान, सुंदरता की पहचान,
तेज दिमाग, फुर्तीला जिस्म, चेहरे पर बिखरी मुस्कान,
हर चुनौती मुट्ठी में, और दिमाग में गीता ज्ञान,
बच्चों के संग बच्चे बनकर, और बड़ों को दे सम्मान !
काजल बनाती है सहेलियां, सबके चेहरों पर मुस्कान,
पाक विद्या में सिद्धहस्त, स्वादिष्ट बनते हैं पकवान !
काजल है गुणों की खान, यही है काजल की पहचान !!

मम्मी-डैडी, बृजेश-बिंदु और आर्शिया-अर्णव
ख़ुशी ख़ुशी जन्म दिन मनाते, +बड़े केक के साथ !
आशीर्वाद, काजल के सर पर देवी भगवती का हाथ !!

HAPPY BIRTH DAY, HAPPY BIRTH DAY,
HAPPY BIRTH DAY TO YOU काजल,
खुश रहो, प्रशन्न रहो और स्वस्थ रहो हर पल !

हैपी बर्थ डे आत्रेया,
खुश रहो, मस्त रहो,
सियत पर दो ध्यान,
शिक्षित बनके नाम कमाओं,
यही हमारे अरमान !
महीना अक्टूबर, न सर्दी न गर्मी,
त्योहारों का महीना वन उपवन में हलचल,
“सर्दी आने वाली है जल्दी जल्दी चल” !
राम अयोध्या आये थे हजारों दीप जले,
हमारे आँगन में १४ दीपक जगमग जगमग करे !
आर्शिया-आर्नव उत्साहित हैं, भैया के जन्म दिन पर,
केक तो कट गया, दृष्टि पीजा पर,
आत्रेया को आशीर्वाद देने आये, बजरंगी हनुमान,
” हर दिन मंगलमय हो” देते हैं वरदान !
HAPPY BIRTH DAY, HAPPY BIRTH DAY,
HAPPY BIRTH DAY TO YOU ATREYAA,
गुन गुन करते भंवरों ने ये सन्देश दिया !
दादा दादी, चाचा चाची, आर्शिया आर्नव

जवाहर बेटे, नहाने की जरूरत नहीं है,
सर्दी है कहीं पसीना नहीं है !
मुश्किल आजकल कच्छे बनियान की है,
कच्छा कहीं तो बनियान कहीं है !
जेब में लिफाफा जरूर ले जाना,
चटकारे लेले कर माल उड़ाना,
पर रस मलाई एक ही खाना ! बेटे शादी में जरूर जाना,
मेरे नाम का भी लिफाफा लेजाना ! बेस्ट ऑफ़ लक !

Rate this Article:

1 Star2 Stars3 Stars4 Stars5 Stars (No Ratings Yet)
Loading ... Loading ...

2 प्रतिक्रिया

  • SocialTwist Tell-a-Friend

Post a Comment

CAPTCHA Image
*

Reset

नवीनतम प्रतिक्रियाएंLatest Comments

Shobha के द्वारा
November 25, 2017

श्री रावत जी जन्म दिन के शुभावसर पर इससे सुंदर शुभकामनाएं और क्या होंगी ऐसे ही लिखते रहिये

    harirawat के द्वारा
    November 26, 2017

    शोभाजी, नमस्कार ! आप एक राष्ट्रीय स्तर की लेखक हो और आपके सामने अपने लेख कवितायेँ, कुंद पड़ जाती हैं, तब भी आप अपने सकारात्मक टिप्पणी से नयी ऊर्जा प्रदान करते हो ! बहुत सारा धन्यवाद !


topic of the week



latest from jagran