jagate raho

Just another weblog

423 Posts

1036 comments

Reader Blogs are not moderated, Jagran is not responsible for the views, opinions and content posted by the readers.
blogid : 12455 postid : 1361612

जरा मौज मस्ती करलो

Posted On: 24 Nov, 2017 में

  • SocialTwist Tell-a-Friend

ये जिंदगी है मौज मस्ती की, बड़ी महगी, नहीं है सस्ती !
आलम यह है, पेट में कैंसर पल रहा है,
जेब नोटों से भरा है,
यमदूत दरवाजे पर खड़ा है,
पर पैसे खर्च नहीं करना है,
मरीज खाट पर पड़ा है !
ये दो नंबर की कमाई है,
साथ लेकर चलना है,
वहां डंडा न पड़ें, रिश्वत के पैसों का इंतजाम करना है !
यहाँ कमाई नहीं दिखा सकता,
टैक्स से बचना है,
मेरे सीए ने ऐसा ऑडिट किया है,
कोई घोटाला उजागर नहीं हुआ है,
काला धन था, पर मेरे ख़ास चम्मचों ने
सब सफ़ेद कर दिया है,
नोटबंदी से कुछ रकम काली कोठी में पड़ा है,
उसे नर्क स्वर्ग जो भी मिलेगा,
चित्रगुप्त के पास जमा करना है !
सुनने में आया है कि घोटालेबाजों, चोर, डकैतों,
काला धन जमा करने वालों, हत्यारे,
नारी की इज्जत उतारने वालों और
टैक्स चोरों को,
नरक की धधकती हुई अग्नि की लपटों से,
तंग सुरंग से गुजरना पड़ता है !
बड़े लोगों ने भी पाप बड़े किये हैं, मवेशी चारा तक पर हाथ मारा है,
रेलमंत्री था, पेटभरकर खाया है,
गरीब की सारी दवाइयां बाजार में बेचीं,
बाफर्स गन में कमीशन ली,
नकली गन बॉर्डर पर पहुंचाई हैं !
आज तक क़ानून भी इनका कुछ नहीं बिगाड़ पाई हैं !
इंग्लैण्ड और स्विस बैंकों में अरबों बेनामी सम्पति अपनी पड़ी है,
सत्ता पारिवारिक समझकर इर्द गिर्द खड़ी है !
नर्क से अपनों के मैसेज आते हैं,
लिखते हैं वहां भी रिश्वत, कमीशन समझ कर खाते हैं !
आखरी वक्त सारी धन सम्पति रजिस्ट्री शरीर पर बंधवा देना,
ये शरीर तो पञ्च तत्व में मिल जाएगा,
सम्पति की रसीद दिखाकर वहां से सब मिल जाएगा !
धरती की केवल एक लंगोटी, नर्क में पूरा बिस्तर मिलता है,
पापियों का बहुमत देखकर, यमराज खुद हिलता है !

Rate this Article:

1 Star2 Stars3 Stars4 Stars5 Stars (2 votes, average: 3.00 out of 5)
Loading ... Loading ...

5 प्रतिक्रिया

  • SocialTwist Tell-a-Friend

Post a Comment

CAPTCHA Image
*

Reset

नवीनतम प्रतिक्रियाएंLatest Comments

jlsingh के द्वारा
December 1, 2017

आदरणीय चाचा जी, सादर प्रणाम! आपने बहुत ही अच्छा लिखा है व्याख्यान. भ्रष्टाचार मिटाने के सारे तरीके धरे के धरे रह जाते हैं भ्रष्टाचारी को कुछ नहीं होता आम आदमी ही धरे जाते हैं. अगर स्वर्ग नरक का थोड़ा भी होता भान ये नहीं करते धर्म स्थल को बदनाम भगवान के नाम पर अल्लाह के नाम पर वे करते हैं गलत काम फिर भी उन्हें ही मिलत्ता है आराम! जय राम जय जय सिया राम!

Shobha के द्वारा
November 25, 2017

श्री रावत जी अति सुंदर सच्चाई इंग्लैण्ड और स्विस बैंकों में अरबों बेनामी सम्पति अपनी पड़ी है, सत्ता पारिवारिक समझकर इर्द गिर्द खड़ी है ! नर्क से अपनों के मैसेज आते हैं, लिखते हैं वहां भी रिश्वत, कमीशन समझ कर खाते हैं ! आखरी वक्त सारी धन सम्पति रजिस्ट्री शरीर पर बंधवा देना, ये शरीर तो पञ्च तत्व में मिल जाएगा, सम्पति की रसीद दिखाकर वहां से सब मिल जाएगा !काश ऐसा होता

    harirawat के द्वारा
    November 26, 2017

    डाक्टर शोभा जी, धन्यवाद सकारात्मक टिप्पणी के लिए !

harirawat के द्वारा
November 24, 2017

पाठको, दैनिक जागरण के, या ब्लॉग लिखने वाले, कृपया एक नजर केवल एक इस कविता पर जरूर डाल देना, अपनी प्रतिक्रया देना, उन भ्रष्ट राजनयिकों के लिए ! धन्यवाद

    harirawat के द्वारा
    December 1, 2017

    भतीजे जब चाचा की कविता पढ़कर उस पर सकारात्मक टिप्पणी देते हैं तो चाचा का सर गर्व से ऊंचा होजाता है ! आशीर्वाद के साथ !


topic of the week



latest from jagran