jagate raho

Just another weblog

417 Posts

1019 comments

Reader Blogs are not moderated, Jagran is not responsible for the views, opinions and content posted by the readers.
blogid : 12455 postid : 1374091

जय बजरंग बलि !

Posted On: 12 Dec, 2017 में

  • SocialTwist Tell-a-Friend

जय बजरंग तोड़ दे दुश्मन की कली,
थी नाजुक हाथों में पली,
अचानक मची खलबली,
पर मुमताज बिस्तर से नहीं हिली !
मोदी के नाम से ही इर्षा से जल पड़ी,
रह न सकी खड़ी,
खाट से ही गिर पड़ी,
जय बजरंग बलि !
बाहर से आवाज आई,
पप्पू ने गद्दी पाई,
एक हजार चम्मचों ने
मीठी खीर खाई !
चमचों में कुछ दिल फेंक भी थे,
सेठ साहूकारों के लाडले,
स्कूलों से निकाले गए अमीर थे !
पप्पू के इर्द गिर्द घेरा बना कर
अपनी भी किस्मत अजमा रहे थे !
कुछ चमचे फ़ौज में जाने की बातें कर रहे थे,
फ़ौज में बड़ी मौज है,
हवा में उड़ती ख़बरों का जिक्र कर रहे थे !
एक बिगड़े रईस का साहब जादा बोला,
हाँ फ़ौज में बड़े मजे हैं, राशन के अलावा दारु भी मिलती है,
दिल की बुझी हुई किस्मत की कली खिलती है !
“ये जिंदगी है मौज में,
तू भर्ती होजा फ़ौज में,
जब पडेगा बम का गोला,
तू कूद जाना हौज में ” !
दूसरा चमचा बोला,
नहीं नहीं फ़ौज में दुश्मन से लड़ना पड़ता है,
खून खराबा करना पड़ता है !
हर कदम पर आतंकवादी हमला कर देते हैं,
पुलिस का काम भी फ़ौज को ही करना पड़ता है !
तीसरा बोला,
भाई मैंने तो यहां तक सूना है की
हमारे साहब की दादी ने कभी फ़ौज को नकारने की वकालत की थी,
“हम तो शान्ति प्रेमी हैं हमें सेना की जरूरत नहीं” ये बाते कही थी !
“हिंदी चीनी भाई भाई” कहते कहते चीन ने हमारा इलाका कबर कर लिया,
नाम मात्र के सैनिक थे, पुराने हथियारों के साथ, उन्हें यमपुरी पहुंचा दिया !
उन् दिनों साहब जादे की दादी के पापा प्रधान मंत्री थे,
तीन मूर्ति में उनकी रक्षा पर पुलिस फ़ौज के संत्री थे !”
मैं तो क्रिकेट खेलूंगा, रन बनाऊंगा,
विकेट लूंगा, मालामाल हो जाऊंगा,
विराट कोहली की तरह इटली जाकर शादी करूंगा,
साउथ अफ्रिका जाकर हनीमून मनाऊंगा !
आज असली मजा क्रिकेट में है, न राजनीति न धना सेठ में है !
अपने साहेबजादे को कहेंगे की “छोडो ये राजनीति,
एक क्रिकेट अकेडमी खोल दो, वैट बॉल में किस्मत आजमाओ,
देश-विदेश घूमों और मीडिया में छा जाओ !
कोच होगा हमारा खली,
जय बजरंग बलि तोड़ दे दुश्मन की नली !! हरेंद्र

फिर ६५ और ७१ में पाकिस्तान

Rate this Article:

1 Star2 Stars3 Stars4 Stars5 Stars (No Ratings Yet)
Loading ... Loading ...

6 प्रतिक्रिया

  • SocialTwist Tell-a-Friend

Post a Comment

CAPTCHA Image
*

Reset

नवीनतम प्रतिक्रियाएंLatest Comments

Shobha के द्वारा
December 18, 2017

श्री रावत जी पप्पू ने गद्दी पाई, एक हजार चम्मचों ने मीठी खीर खाई ! चमचों में कुछ दिल फेंक भी थे, सेठ साहूकारों के लाडले, स्कूलों से निकाले गए अमीर थे ! रावत जी खीर नहीं लड्डू बटे थे लेकिन आपकी कविता में खीर की सुगंध है

    harirawat के द्वारा
    December 18, 2017

    धन्यवाद शोभाजी !

harirawat के द्वारा
December 16, 2017

जरा एक ठंडी नजर इधर भी करो, हनुमान जी को अपने मन मंदिर में स्थापित करो ! “और देवता चित न धरीं, हनुमान जी सर्व सुख करीं, जो या पढ़ें हनुमान चालीसा, होय सिद्ध साकी गौरीसा !”

harirawat के द्वारा
December 12, 2017

जरा एक ठंडी नजर इस कविता पर भी डालिए, तथा अपनी प्रतिक्रया दें !

harirawat के द्वारा
December 12, 2017

जागरण जंक्शन के लेखकों व् पाठको कृपया इस http://static-files.jagranjunction.com/static-files/pix/postacomment_bttn.gifकविता को जरूर पढ़ें और अपनी प्रतिक्रिया दें ! धन्यवाद

harirawat के द्वारा
December 12, 2017

जागरण जंक्शन के लेखकों व् पाठको कृपया इस कविता को जरूर पढ़ें और अपनी प्रतिक्रिया दें ! धन्यवाद


topic of the week



latest from jagran